22nd April 2024

चुनाव से पहले पकड़ा गया अवैध हथियारो का जखीरा, नोएडा थाना प्रभारी सेक्टर 24 विवेक श्रीवास्तव वा टीम के द्वारा चैकिंग करते समय अनतर्राज्य असलाह तस्कर राहुल उर्फ गोविंदा चढ़ा पुलिस के हत्थेपुनर्जागरण की राजनीति.. लोकतंत्र में सबसे बड़े विश्वास मत का लाभ विजेता उठाता है, PM कर रहे नया प्रयोगयूपी बोर्ड परीक्षा में उत्तीर्ण विद्यार्थियों को सीएम योगी ने दी बधाई, बोले- आप सभी नए यूपी का भविष्य हैंयोगी के ‘टाइगर’: सर्वेश सिंह जब भी मिलते थे तो एक ही बात करते थे CM ने मंच से सुनाया था किस्सामशीन की खराबी, वोटरों की नाराजगी के बीच मतदान…ऐनमौके पर नाथ को राहत, नाराज महापौर आए समर्थन में
उत्तर प्रदेश

यूपी के बाराबंकी से हैरान करने वाली खबर सामने आई है। यहां एक नानी अपने 17 साल के नाती की लाश के साथ 10 दिन से रह रही थी

रिपोर्ट : धर्मेंद्र कौशिक

बाराबंकी में 65 साल की बुजुर्ग मिथलेश अपने 17 साल के नाती प्रियांशु के साथ पिछले करीब सात साल से अपने घर में कैद थी। इन 25 साल में उसने करीब 10 अपनों को खो दिया। ये दुखों का पहाड़ पार करते-करते वह विक्षिप्त सी हो गई।

जीवनशैली ऐसी थी कि किसी पर भरोसा ही नहीं था। नाती के शव के साथ करीब 10 दिन गुजारने वाली मिथलेश अभी भी सबसे नाती का हाल पूछ रही है। वह बार- बार कह उठती है कि मेरे नाती के कीड़े पड़ गए…कोई उसकी दवा करा दो।

शहर के मोहारी का पुरवा मोहल्ले में रविवार की शाम मिथलेश नामक वृद्घा अपने घर में करीब 18 साल के नाती दिव्यांशु के शव के साथ पाई गई थी। शव को कीड़े खा रहे थे मगर मिथलेश का नाती से मोह समाप्त ही नहीं हो रहा था। पुलिस व मोहल्लों वालों के अनुसार, शादी के बाद मिथलेश ने अपने पति को खोया तो दूसरा विवाह आरपीएफ कांस्टेबल सत्यनरायण वर्मा से किया।

इनसे बुजुर्ग को दो बेटे-दो बेटी हुई। दोनों बेटों और बेटी का विवाह हुआ। एक बेटी व दामाद तो 15 साल पहले गुजर गए। उन्हीं का पुत्र प्रियांशु तभी से नानी के पास रहने आ गया था। इसके बाद एक के बाद एक मिथलेश के दोनों बेटे संदिग्ध दशा में लापता हो गए। उनका भी करीब 10 साल से अता पता नहीं है।

दो बहुएं व एक पौत्र भी उसे छोड़कर चले गए। पति की पेंशन से बुजुर्ग का काम चल जाता, मगर उसके दुखों पर मरहम लगाने वाला नहीं था। वर्ष 2016 में पति सत्यनरायण का निधन होने के बाद मिथलेश को मानो दुनिया से भरोसा उठ गया
मोहल्ले के लोगों का कहना है कि 2016 के बाद से नानी व नाती दोनों मानों घर में ही बंद रहते थे। नाती का स्कूल तक उसने छुड़वा दिया गया था। सब कुछ खोकर मिथलेश बस नाती से मतलब रखती थी। उसके खोने के डर से उसे कहीं जाने नहीं देती थी। लोगों का तो यहां तक कहना है कि नाती भी मानसिक रुप से बीमार था। इंस्पेक्टर अभिमन्यु मल्ल कहते हैं कि यह अवसाद की पराकाष्ठा जैसा मामला है।
बेटों की गुमशुदगी तक दर्ज नहीं
बुजुर्ग को उसके परिजनों की निगरानी में घर पर ही रखा गया है। उनके दोनों लापता बेटों का पता नहीं है। कोई गुमशुदगी दर्ज नहीं मिली है। मामले की जांच की जा रही है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also
Close