16th April 2024

राजनीति
Trending

जयपुर में शहीद स्मारक पर सचिन पायलट का अनशन जारी; ला सकते है प्रदेश की राजनीति में बड़ा बदलाव

जयपुर : राजस्थान के पूर्व उप मुख्यमंत्री सचिन पायलट के अनशन शुरु करने के साथ बड़े राजनीतिक बदलाव के संकेत भी दिखाई दे रहे हैं। जयपुर के शहीद स्मारक पर सुबह 11:00 बजे से सचिन पायलट मौन रूप से धरने पर बैठे हुए हैं जो कि शाम 4:00 बजे तक चलने वाला है। कांग्रेस ने वसुंधरा सरकार पर भ्रष्टाचार के जो आरोप लगाए थे, उनकी जांच और कार्रवाई नहीं होने के कारण पायलट गहलोत सरकार के खिलाफ यह धरना दे रहे हैं।

धरना स्थल पर लगे पोस्टरों ने राजनीति के गलियारों में बड़ी हलचल मचा दी है क्योंकि यहां लगे पोस्टरों में गांधीजी के अलावा किसी भी कांग्रेसी छोटे-बड़े नेता की कोई फोटो नहीं है. सिर्फ देशभक्ति गाने बजाए जा रहे हैं और लगातार सचिन पायलट के समर्थन में आए लोग नारे भी लगा रहे है।

रविवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस के माध्यम से वसुंधरा राजे के मुख्यमंत्री रहते हुए घोटालों पर कार्यवाही नहीं किए जाने को मुद्दा बनाकर सचिन पायलट ने अनशन करने की घोषणा की थी. पायलट ने इस अनशन में उनके समर्थक मंत्री विधायकों को दूर रखा है और कांग्रेस के प्रदेश प्रभारी रंधावा ने सोमवार देर रात अपने बयान में पायलट के इस कार्यक्रम को पार्टी के विरोध का काम बताया।

राजस्थान कांग्रेस के प्रभारी सुखजिंदर सिंह रंधावा ने पार्टी प्लेटफॉर्म की जगह अनशन पर जाने के पायलट के कदम पर सवाल उठाते हुए कहा- सचिन पायलट जब सवा साल डिप्टी CM रहे तब करप्शन का मुद्दा क्यों नहीं उठाया? मुझसे मुलाकात में कभी उन्होंने करप्शन पर बात नहीं की। पार्टी प्लेटफार्म पर बात करने की जगह सीधे अनशन पर बैठना गलत है।

राजनीतिक जानकारों का एक धड़ा पायलट के कांग्रेस छोड़कर खुद की पार्टी बनाने की संभावना जता रहा है। संभावनाओं को इसलिए भी बल मिला है कि लगातार मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के साथ सामने आ रही अनबन और सचिन पायलट ने जिस तरह वसुंधरा राजे और BJP के भ्रष्टाचार को मुद्दा बनाया है उससे उनके तीसरे मोर्चें की तरफ रुझान की तरफ देखा जा रहा है।

अनशन के बाद सियासी लाइन साफ कर सकते हैं पायलट

सचिन पायलट दिन भर अनशन करने के साथ अपनी सियासी लाइन साफ कर सकते हैं। पायलट भाषण में गहलोत और पार्टी को लेकर क्या टोन रखते हैं, उससे उनके कांग्रेस में रहकर लड़ने या तीसरा मोर्चा बनाने का संकेत मिल जाएगा।हमारे राजनीति के सूत्रों से चर्चा यहां तक सामने आ रही है कि सचिन पायलट “प्रगतिशील कांग्रेस या इस तरह की किसी नाम से मिलती-जुलती नई पार्टी की नींव भी रख सकते हैं”

  • भारतीय किसान यूनियन सहित आम आदमी पार्टी ने भी सचिन पायलट को समर्थन दिया है।
  • राजस्थान के कई जिलों से हजारों समर्थन करने वाले लोग इस कार्यक्रम में पहुंचेंगे, ऐसा दावा किया जा रहा है।

पायलट ने कहा था- वसुंधरा से मिलीभगत के आरोप लगते हैं
सचिन पायलट ने हाल ही में प्रेस कॉन्फ्रेंस करके कहा था कि मैंने मुख्यमंत्री गहलोत को पूर्व CM वसुंधरा राजे के समय हुए घोटालों पर कार्रवाई को लेकर दो बार चिट्ठी लिखी, लेकिन गहलोत ने कोई एक्शन नहीं लिया। वसुंधरा सरकार में हुए भ्रष्टाचार पर कार्रवाई नहीं की गई। जबकि विपक्ष में रहते हुए हमने यह वादा किया था कि जांच कराई जाएगी।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also
Close