21st July 2024

एक दर्जन से अधिक मुकदमे फिर भी निकला बदमाश रेकी करने, चेकिंग के दौरान हुई मुठभेड़ में थाना प्रभारी ध्रुव भूषण दूबे ने बदमाश को ठोकासेक्टर 24 थाना प्रभारी ध्रुव भूषण दूबे के द्वारा पकड़ा गया सीमेंट से भरा चोरी हुआ ट्रैक्टर, 24 घंटे में किया चोरी की घटना का खुलासासेक्टर 24 थाना प्रभारी ध्रुव भूषण दूबे ने दिनदहाड़े 17 मुकदमे वाले बदमाश को चेकिंग के दौरान मुठभेड़ में ठोकायूट्यूब पर विज्ञापन चला कर बेरोजगार युवकों को रोजगार देने के नाम पर लाखो की ठगी करने वाला गैंग चढ़ा पुलिस के हत्थे,थाना सेक्टर 24 प्रभारी ध्रुव भूषण दूबे ने चेकिंग के दौरान बदमाश को रोका तो पुलिस पर किया फायर,जवाबी कार्यवाही में पुलिस ने ठोका
उत्तर प्रदेश

हस्तशिल्प निर्यात संवर्धन परिषद (ईपीसीएच) द्वारा आयोजित आईएचजीएफ दिल्ली मेले का आगामी 57वां संस्करण 6 से 10 फरवरी 2024 तक इंडिया एक्सपो ग्रेटर नोएडा में रहेगा

16 हॉल और 900 स्थायी शोरूम सहित 3000 से अधिक प्रतिभागी अपने उत्पाद प्रदर्शित करेंगे; 100 से अधिक देशों के क्रेता होंगे शामिल; ज्ञान सत्र और रैंप शो प्रतिभागियों के अनुभव को बेहतर बनाएंगे

दिल्ली/एनसीआर : आज 05 फरवरी 2024 को हस्तशिल्प निर्यात संवर्धन परिषद (ईपीसीएच) द्वारा आयोजित आईएचजीएफ दिल्ली मेले का आगामी 57वां संस्करण 6 से 10 फरवरी 2024 तक इंडिया एक्सपो सेंटर एंड मार्ट, ग्रेटर नोएडा एक्सप्रेसवे में आयोजित किया जाएगा। इस संस्करण में भव्य व्यवस्थित देखने को मिलेगा। इस मेले में 16 विशाल हॉल हैं, जिनमें से प्रत्येक को होम, फैशन, लाइफस्टाइल, फर्निशिंग और फर्नीचर सहित 14 प्रमुख प्रदर्शन खंडों को समर्पित किया गया है। उत्पादों की विविध श्रृंखला में घरेलू सामान, घरेलू साज-सज्जा, फर्नीचर, उपहार और सजा-सज्जा उत्पाद, लैंप और प्रकाश व्यवस्था, क्रिसमस और उत्सव की

साज-सज्जा, फैशन आभूषण और एसेसरीज, स्पा और बेलबीइंग उत्पाद, कालीन और गलीचे, बाथरूम सहायक उपकरण, उद्यान सहायक उपकरण, शैक्षिक खेल-खिलौने, हस्तनिर्मित कागज उत्पाद और स्टेशनरी, साथ ही चमड़े के बैग शामिल हैं। ईपीसीएच के अध्यक्ष, श्री दिलीप बैद ने इस अवसर पर कहा, “दुनिया भर से खरीदारों की एक महत्वपूर्ण आमद के साथ, इस मेले में हमारे प्रदर्शक आगामी स्प्रिंग संस्करण को भारतीय हस्तशिल्प क्षेत्र के लिए एक महत्वपूर्ण मंच बनाने के लिए प्रतिबद्ध हैं। यह हमारे लक्ष्य-तीन गुना तीस तक के अनुरूप है। हस्तशिल्प और उपहार उत्पादों की एक नई श्रृंखला के साथ, सामूहिक रूप से ये उत्पाद और हमारे प्रदर्शक एक ही मंच पर विचारपूर्वक तैयार की गई अवधारणाओं और उत्पादों का एक पूरा स्पेक्ट्रम पेश करते

हैं।” उन्होंने आगे कहा कि मेले का उ‌द्घाटन श्रीमती दर्शना विक्रम जरदोश, कपड़ा और रेलवे राज्य मंत्री, भारत सरकार द्वारा

किया जाएगा।

आईईएमएल के अध्यक्ष श्री राकेश कुमार ने कहा, “एक ही छत के नीचे हस्तशिल्प निर्यातकों के दुनिया के सबसे बड़े जमावड़े के रूप में लोकप्रिय आईएचजीएफ दिल्ली मेला हमारे जीवंत हस्तशिल्प क्षेत्र की क्षमता, ताकत, पैमाने और क्षमता को प्रदर्शित करता है। इसे सबसे विस्तृत और लोकप्रिय सोर्सिंग आयोजन बनाने के लिए हम लगातार प्रयास कर रहे हैं। हमारा मिशन विनिर्माण और निर्यात के विभिन्न पहलुओं को शामिल करना है, जिसमें उत्पादन क्षमता को बढ़ाना, गुणवत्ता बढ़ाना, डिजाइनों में नवीनता लाना, नए उत्पाद विविधताएं पेश करना और खरीदारों की बढ़ती संख्या से जुड़ने के लिए आउटरीच का विस्तार करना और उनकी विविध आवश्यकताओं को पूरा करना शामिल है। हमारे देश के भीतर बेजोड़ विविधता और विकल्पों का लाभ उठाते हुए, हम बड़े थोक विक्रेताओं और आयातकों की जरूरतों को पूरा करते हुए मेले में प्रतिभाग करने वाले लोगों के लिए प्राथमिक आपूर्तिकर्ता बनने की कोशिश कर रहे हैं।

आईएचजीएफ दिल्ली फेपर स्प्रिंग 2024, रिसेप्शन कमेटी की अध्यक्ष श्रीमती प्रिया अग्रवाल ने इस अवसर पर बताया, “वर्षों से, मेले ने अपनी अंतरराष्ट्रीय पहुंच के माध्यम से उद्यमियों, निर्माताओं, निर्यातकों और कारीगरों के लिए बाजार संबंध बनाए हैं, साथ ही इस कार्य के लिए अपनी एक सशक्त पहचान भी हासिल की है। आयोजक के रूप में, स्प्रिंग 2024 की ओर, हम वैश्विक खरीदारों को एक ही छत के नीचे भारतीय प्रदर्शकों के सबसे बड़े समूह से मिलने और मजबूत, खुशनुमा और पारस्परिक रूप से लाभदायक संबंधों की शुरुआत करने के लिए एक अनुकूल व्यापार मंच प्रदान करने का प्रयास करते है।

अपनी बात को विस्तार देते हुए उन्होंने कहा,” हस्तशिल्प समूहों, उत्पादन केंद्रों और कारीगर गांवों के मजबूत प्रतिनिधित्व के साथ पूरे भारत से कुल मिलाकर 3000 से अधिक प्रदर्शक शामिल होंगे। सामूहिक रूप से, वे 2000 से अधिक नए उत्पाद और 300 से अधिक डिजाइन अभिव्यक्तियाँ प्रस्तुत करने वाले हैं। हॉल में प्रदर्शक बूथों के अलावा, आगंतुकों को इंडिया एक्सपो सेंटर के विभिन्न स्तरों पर स्थित प्रमुख निर्यातकों के १०० मार्ट/स्थायी शोरूम तक पहुंच प्राप्त होगी। क्रेता लाउज और रिफ्रेशमेंट जोन के अलावा फैशन शो, पैनल चर्चा, ज्ञान सेमिनार जैसे अतिरिक्त आकर्षण शो प्रतिभागियों और आगंतुकों के लिए एक बेहतरीन अनुभव साबित होंगे।”

ईपीसीएच के वाइस चेयरमैन, श्री नीरज खन्ना ने बताया, “आईएचजीएफ दिल्ली मेला वैश्विक स्तर पर घर, जीवनशैली, फैशन,

फर्निशिंग और फर्नीचर बाजारों की मांग को पूरा करने की क्षमता, काबलियत के साथ सांस्कृतिक और शिल्प समृद्ध भारत को

प्रस्तुत करने का प्रयास करता है। यही चीज पूरी दुनिया को नवीनतम भारतीय हस्तशिल्प उत्पादों के लिए प्रमुख वन-स्टॉप सोर्सिंग प्लेटफॉर्म से स्रोत तक लाती है। इसलिए, मौजूदा खरीदारों को पूरा करने और नए खरीदारों को आकर्षित करने के लिए, छोटे और मध्यम निर्यातकों, कारीगर उद्यमियों और डिजाइनरों से लेकर भारत के अग्रणी निर्माता निर्यातको तक प्रदर्शकों की भागीदारी शामिल रही है।

केताओं के बारे में बोलते हुए उन्होंने आगे कहा, “दुनिया भर से खरीदार अपनी सोर्सिंग आवश्यकताओं के लिए आईएचजीएफ- दिल्ली मेले में आना पसंद करते है क्योंकि यह उत्कृष्ट उत्पाद रेंज, आकर्षक कीमतों, विभिन्न किस्मों, विशिष्ट गुणवत्ता और नई प्रोडक्ट लाइन के साथ अग्रणी भारतीय निर्माताओं के लिए एक विशेष जुड़ाव उपलब्ध कराता है।

ईपीसीएच के कार्यकारी निदेशक, श्री आर के वर्मा ने बताया कि मेले को विस्तृत प्रचार प्रसार देने के लिए ने हस्तशिल्प निर्यात संवर्धन परिषद ने व्यापक प्रचार अभियान चलाया है इसमें मेले को अंतरराष्ट्रीय मैगजीन, उनके डिजिटल प्रकाशनों, ऑनलाइन पोर्टल्स, बेब बेनर और सोशल मीडिया में व्यापक रूप से कवर किया गया है। इसके अलावा भारतीय दूतावासों ने अपने-अपने देशों में खरीदारों और आयातकों को निमंत्रण दिया। मेले को डिजिटल प्रकाशनों और सोशल मीडिया में व्यापक रूप से कवर किया गया है। शो में आने वाले आगंतुकों की प्रोफाइल में दुनिया भर से विदेशी खरीदार शामिल हैं, जिनमें थोक विक्रेता, वितरक, चेन स्टोर, डिपार्टमेंटल स्टोर, खुदरा विक्रेता, मेल-ऑर्डर कंपनियां, ब्रांड मालिक, खरीद घर और डिजाइनर और ट्रेड फोरकास्टर्स के अलावा खरीद प्रतिनिधि और घरेलू वॉल्यूम खरीदार शामिल हैं।

100 से अधिक देशों से विदेशी खरीदार ने आने के लिए रजिस्ट्रेशन करा लिए हैं इनमें अल्बानिया, अल्जीरिया, अर्जेंटीना, ऑस्ट्रेलिया, ऑस्ट्रिया, अजरबैजान, बहरीन, बेल्जियम, बोलीविया, ब्राजील, कनाडा, चिली, चीन, कोलबिया, साइप्रस, डेनमार्क, मिस्र, फिनलैंड, फ्रांस, जर्मनी, ग्रीस, हांगकांग, हंगरी, इंडोनेशिया, ईरान, इस्लामिक गणराज्य इराक, आयरलैंड, इजराइल, इटली, जापान, जॉर्डन, कजाकिस्तान, केन्या, कोरिया गणराज्य, कुवैत, लेबनान, मलेशिया, मॉरीशस, मैक्सिको, नीदरलैंड, न्यूजीलैंड, नॉर्वे, ओमान, पैराग्वे, पेरू, फिलीपींस, पोलैंड, पुर्तगाल, कतर, रोमानिया, रूस, सऊदी अरब, सिंगापुर, स्लोवाकिया, दक्षिण अफ्रीका, स्पेन, स्वीडन, स्विट्जरलैंड, ताइवान, ताजिकिस्तान, तंजानिया, थाईलैंड, तुकी, यूकेन, संयुक्त अरब अमीरात, यूनाइटेड किंगडम, संयुक्त राज्य अमेरिका, वेनेजुएला, वियतनाम और कई अन्य देशों के लोगों, खरीददारों ने मेले में आने के लिए पहले से पंजीकरण करा लिया है।

कंपनियों/डिपार्टमेटल स्टोर्स के जिन प्रतिनिधियों ने पहले ही शो में आने की पुष्टि कर दी है, उनमें अर्जेंटीना के सागरदा माद्रेः ऑस्ट्रेलिया के एम्बैंक, सेरेनेड लेदर, एड्रियाटिक फर्निचर इंपोट्स प्राइवेट लिमिटेड, ऑस्ट्रिया की एक्स एक्स एक्स लुट्ज़; ब्राजील की फैसी होम कलेक्शन, • ली एंड लुईस, बेल्जियम; वेस्टविग: कनाडा की नेमकोर इंक, अर्बन गिफ्ट्स; चिली की एक्सेसोरियोस बांस; डेनमार्क की वेस्टर्न इंटरनेशनल कंपनी एलएलसी, मैडम स्टोल्ट्ज़; मिस की महल्लाटेक्स; फिनलैंड की एल फैशन ग्रुप ओए फ्रांस की रूबेस डेकोरेशन्स, बेड एंड फिलॉस्फी: जर्मनी की केएचजी जीएमबीएच एंड कंपनी केजी, मैसिवमोएबेल 24

जीएमबीएच: ग्रीस की इलिस होमस; इटली की ले केस ले कोसे; जापान की कोवा कंपनी लिमिटेड, मेक्सिको की गेलेरियास एल ट्रायंफो; नीदरलैंड्स की मेनी भाड्रा बीपी- फीनिक्स इंपोर्टस; न्यूजीलैंड की कैथी पोप ज्वेलरी; कतर की लिवान फर्नीचर; रूस की रेटे होम: सऊदी अरब की केसर अल सराया फर्निचर कंपनी: सिंगापुर की किटन कार्ट्स, स्पेन की केव होम, यूएई की लैंडमार्क ग्रुप – होम बॉक्स, द होम एलएलसी; यूनाइटेड किंगडम की वोमैक ऑफ़ बावट्री, कोच हाउस; अमरीका की मॉडर्न डे एक्सेंट, फर्निचर क्लासिक्स; शामिल है। ईपीसीएच के कार्यकारी निदेशक श्री आर के वर्मा ने बताया इसके अलावा वियतनाम की जियोवानी ग्रुप जेएससी, और कई अन्य देशों की कंपनियों ने पहले ही शो में अपनी अपने प्रतिभाग की पुष्टि कर दी है।

अपनी बात को विस्तार देते हुए श्री वर्मा ने बताया कि इसके अलावा, शो ने अपने पिछले कुछ संस्करणों से प्रसिद्ध घरेलू कंपनियों के लिए भी बड़ी मात्रा में खुदरा खरीदारी के लिए एक विकल्प उपलब्ध करा दिए हैं। आईएचजीएफ दिल्ली मेला ने भारत में तेजी से बदलते खुदरा परिदृश्य का स्वागत किया है साथ ही क्रेताओं को सुविधा प्रदान की है। नए सिरे से खरीदारी की गतिशीलता और अंतरराष्ट्रीय डिजाइन और प्रीमियम उत्पादों की खोज के कारण, आर्चीज़, बाज़ार, डीएलएफ ब्रांड्स प्राइवेट लिमिटेड, फैब इंडिया, फर्न्स एन पेटल, होम सेंटर, मिनिसो लाइफस्टाइल, नीलकमल, न्यूमेरो यूनो क्लोदिंग लिमिटेड, प्योर होम एंड लिविंग प्राइवेट। लिमिटेड, रिलायंस रिटेल, शॉपर्स स्टॉप, टाटा ट्रेट लिमिटेड, वेस्टिन आदि ब्रांड्स और कपनियों सहित प्रमुख भारतीय खुदरा ऑनलाइन ब्रांडों के आगंतुकों का चहेता सोर्सिंग स्थाल बन गया है। उन्होंने आगे कहा प्रमुख स्टोर्स का प्रतिनिधित्व करने वाले बाइंग कसल्टेंट्स जैसे एल्डी, ऑस्ट्रेलिया बीएचपी, ऑस्ट्रिया; बडेमेयर, ब्राज़ील, वानस्पतिक, फ्रांस, आइचोल्ट्ज़ बी.वी. नीदरलैंड्स: होमला, पोलैंड; ग्रुपो एरिक, स्पेन, कोच हाउस, कासा कलेक्टिव लिमिटेड यूनाइटेड किंगडम; अमेज़न, बिग लॉट्स, वॉलमार्ट, यूएसए और कई अन्य ने शो में अपनी प्रतिभाग की पुष्टि की है।

हस्तशिल्प निर्यात संवर्धन परिषद के कार्यकारी निदेशक श्री आर के वर्मा ने बताया कि ईपीसीएच दुनिया भर के विभिन्न देशों में भारतीय हस्तशिल्प निर्यात को बढ़ावा देने और उच्च गुणवत्ता वाले हस्तशिल्प उत्पादों और सेवाओं के एक विश्वसनीय आपूर्तिकर्ता के रूप में विदेशों में भारत की छवि और होम, जीवनशैली, कपड़ा, फर्नीचर और फेशन आभूषण और सहायक उपकरण के उत्पादन में लगे क्राफ्ट क्लस्टर के लाखों कारीगरों और शिल्पकारों के प्रतिभाशाली हाथों के जादू की ब्रांड इमेज बनाने के लिए जिम्मेदार एक नोडल संस्थान है। इस अवसर पर ईपीसीएच के कार्यकारी निदेशक श्री आर के वर्मा ने बताया कि वित्तीय वर्ष 2022-23 के दौरान हस्तशिल्प निर्यात 30019.24 करोड़ रुपये (3728.47 मिलियन डॉलर) रहा।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also
Close