4th March 2024

ऊतराखंड

डॉक्टर अनुज शर्मा ने बताया कि नए साल का स्वागत कुछ अलग अंदाज में करे

ब्यूरो रिपोर्ट

उत्तराखंड : बीते वर्ष के अंतिम दिनों में शांत भाव से एकांत में आत्मचिंतन और आत्मबोध करें की *- हमारे द्वारा पूर्व वर्ष में जो भी कर्म अथवा कार्य किए गये थे वो *सही थे या ग़लत उनका मंथन करें*

*सही कार्यों की पुर्नावृत्ति करने और उसी प्रकार कार्यों को और अधिक जोश और कर्मठता के साथ करने का प्रण लें।*
*और अगर जाने- अनजाने में कोई कार्य अथवा कर्म ग़लत हुए हैं तो *उक्त कार्यों से सबक़ लेकर उनकी पुर्नाव्रत्ति ना करने का प्रयास करें*
*समस्त कार्यों की समीक्षा करने का प्रयास करें और देखें कि क्या वो समस्त कार्य व कर्म सार्थकता से पूर्ण थे या हमने चाहे अनचाहे किसी को *अपने कर्म,वचन और वाणी से कुंठित तो नहीं किया*
*क्या हम किसी पाप के भागीदार तो नहीं बने। *उत्तम कार्यों को अपने जीवन में सामवेश करें।*
*क्या हमारे द्वारा किए गए किसी भी कार्य या हमारी वाणी से अन्य व्यक्ति प्रफुल्लित हुआ और क्या उक्त व्यक्ति को आत्मशांति मिली*
*ये अत्यंत महत्वपूर्ण है की हम जीवन में सकारात्मकता के साथ सार्थकतापूर्ण जीवन जीवन जीने की कला को सीखें, जीवन को और अधिक गौरवशाली व स्वयं की प्रतिभावान बनाने के लिए प्रयासरत रहें*

*प्रत्येक नव दिन को हम उत्सव की तरह जियें,*हर पल आनंद की अनुभूति हो,पल-पल सकारात्मक विचारो से मन व हृदय को स्पंदन करें।*छोटी- छोटी ख़ुशियों को बाँटना सीखें,प्रत्येक दिन कुछ नया करने और सीखने का प्रयास करते रहना चाहिए*।*किसी की मदद करने से पीछे ना हटें।*
*प्रत्येक दिन कोई अच्छा और नेक कार्य करने का प्रयास करें।*
*ज्ञानी व्यक्तियों का सानिध्य करें*

*नकारात्मक विचारो का तर्पण कर सकारात्मक विचारो को अपने जीवन में सम्मिलित करें*।

*लेखक- *डॉक्टर अनुज शर्मा*

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also
Close