14th July 2024

उत्तर प्रदेश

सिपाही-होमगार्ड ने युवती से की छेड़छाड़, मंगेतर को जड़े थप्पड़, बोले- संबंध बनाओ: 12 दिन बाद एफआईआर

ब्यूरो रिपोर्ट गाजियाबाद

साईं उपवन पार्क में मंगेतर के साथ आई युवती से सिपाही और होमगार्ड ने छेड़छाड़ की। विरोध करने पर युवक को थप्पड़ मारे। दोनों को तीन घंटे बंधक बनाकर रखा। छोड़ने के लिए दस हजार रुपये मांगे। पेटीएम के जरिए एक हजार ले भी लिए। पुलिसवालों के साथ सादा कपड़ों में एक युवक भी था। उसने पांच लाख रुपये की मांग की। तीनों ने अश्लील हरकतें भी कीं। इतना ही नहीं, युवती पर संबंध बनाने का दबाव तक बनाया।

खाकी वर्दी को दागदार करने वाले ये संगीन और सनसनीखेज आरोप लगाते हुए युवा जोड़े ने अफसरों से इसकी शिकायत की तो जांच के आदेश दिए गए। जांच में आरोप सही पाए जाने के बाद कार्रवाई की गई है। मामला 16 सितंबर का है। कोतवाली पुलिस ने 28 सितंबर को युवती से तहरीर लेकर पीआरवी पर तैनात सिपाही दिगंबर, होमगार्ड राकेश कुमार और एक अन्य के खिलाफ छेड़छाड़, बंधक बनाने, मारपीट और गाली-गलौज करने की धाराओं में केस दर्ज कर लिया।

सिपाही को निलंबित कर दिया गया। होमगार्ड को बर्खास्त करने के लिए रिपोर्ट बनाकर जिला होमगार्ड कमांडेंट को भेज दी गई। तीसरे आरोपी की पहचान नहीं की जा सकी है। युवती ने एफआईआर में बताया है की सिपाही और होमगार्ड वर्दी में थे। तीसरा व्यक्ति सादा कपड़ों में था। उसे और उसके मंगेतर को तीन घंटे तक बंधक रखाने के बाद वे लोग धमकी देकर गए कि अगर शिकायत की तो अंजाम बुरा होगा।

12 दिन में दर्ज किया केस
पुलिसवालों पर बेहद संगीन आरोप लगने के बावजूद कोतवाली थाना पुलिस ने केस दर्ज करने में 12 दिन का समय लिया। इतनी लंबी अवधि बीत जाने के बाद भी दो नामजद आरोपी होते हुए एक की भी गिरफ्तारी नहीं की गई है। उनसे पूछताछ तक नहीं हुई। अगर हुई होती तो तीसरे आरोपी का नाम-पता मिल गया होता। साफ लग रहा है कि पुलिस की मंशा कार्रवाई करने की है या जांच के नाम पर मामले को लंबा खींचने की है। इस तरह के पहले आ चुके मामलों में आधे से ज्यादा की जांच को लंबा खींचा गया। बाद में या तो समझौता हो गया या फिर साक्ष्य नहीं मिलने की वजह से आरोपियों पर कार्रवाई नहीं हो सकी।

युवती के घर पहुंचे आरोपी
इस मामले में कार्रवाई से बचने के लिए आरोपी पुलिसवाले पुलिसिया हथकंडे अपना रहे हैं। युवती ने बताया कि उसके शिकायत करने के बाद जैसे ही मामले की जांच शुरू हुई, वैसे ही 22 सितंबर को आरोपी उसके घर पहुंच गए। उससे कहा कि अफसरों से शिकायत क्यों की। साथ ही धमकी दी कि इसका अंजाम अच्छा नहीं होगा। वह और उसके परिवार के लोग डरे हुए हैं। कहीं पुलिसवाले कोई अनहोनी न कर दें। वे एक हजार रुपये लौटा गए। घर आने से पहले वे फोन पर धमकी दे रहे थे।

आरोपियों पर केस दर्ज, होगी कार्रवाई 
एसीपी कोतवाली निमिष पाटिल ने बताया कि सिपाही दिगंबर, होमगार्ड राकेश कुमार व अन्य के खिलाफ केस दर्ज किया गया है। सादा कपड़ों में बताए गए तीसरे आरोपी की पहचान और तलाश के प्रयास किए जा रहे हैं। इस मामले में कार्रवाई होगी।

मेरे सामने मंगेतर को पीटा
हम दोनों पार्क में बैठे थे, तभी पीआरवी के सिपाही, होमगार्ड और उनके साथी ने उन्हें घेर लिया। उन्होंने बेहद अभद्र भाषा में उल्टे-सीधे सवाल किए और मेरे साथ छेड़छाड़ करने लगा। मंगेतर ने विरोध किया तो उसे थप्पड़ मारे और काॅलर पकड़कर बुरी तरह से पीटा। मैंने पुलिसवालों के पैर पकड़ लिए पर वे नहीं पसीजे। इसके बाद अश्लील हरकतें करने लगें। मंगेतर के सामने ही मुझसे कहा, हमसे संबंध बना ले, फिर छोड़ देंगे, मेरे आंसू निकल आए। पुलिसवालों ने मेरा और मंगेतर का फोन नंबर लिया। चुप रहने की धमकी देकर छोड़ा।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also
Close