31st May 2024

उत्तर प्रदेश

योगी के ‘टाइगर’: सर्वेश सिंह जब भी मिलते थे तो एक ही बात करते थे CM ने मंच से सुनाया था किस्सा

सीएम योगी ने मंडल में जब भी जनसभाएं की, सर्वेश को हमेशा टाइगर कहकर संबोधित किया। मुरादाबाद में जनसभा के दौरान मंच पर सर्वेश सिंह भी मौजूद थे। सीएम ने भाषण के दौरान चुटकी लेते हुए कहा कि ये लगते तो बाघ जैसे हैं।

मुरादाबाद : सर्वेश सिंह की कद्दावर छवि को सीएम योगी आदित्यनाथ ने मंच से भी लोगों के बीच जाहिर किया। योगी ने मंडल में जब भी जनसभाएं की, सर्वेश को हमेशा टाइगर कहकर संबोधित किया। योगी ने 16 मार्च को मुरादाबाद में जनसभा की थी। इस मौके पर उन्होंने यहां गुरु जंभेश्वर राजकीय विश्वविद्यालय का शिलान्यास किया था। उस समय मंच पर सर्वेश सिंह भी मौजूद थे। सीएम ने भाषण के दौरान चुटकी लेते हुए कहा कि ये लगते तो बाघ जैसे हैं लेकिन जब भी मिलते थे तो मुरादाबाद में यूनिवर्सिटी की बात करते थे। मैंने कहा कि भाई आपको शिक्षा से क्या काम, तो इन्होंने कहा कि मुरादाबाद में विश्वविद्यालय होना चाहिए, यहां के लोगों की जरूरत है।

 

इससे पहले 2021 में विधानसभा चुनाव के समय ठाकुरद्वारा में सीएम योगी की जनसभा थी। वहां भी योगी ने सर्वेश को मंच से टाइगर कहकर पुकारा था। हाल ही में 13 अप्रैल को सीएम ने मुरादाबाद लोकसभा क्षेत्र के बढ़ापुर में जनसभा की। योगी ने अपने भाषण की शुरुआत में स्थानीय जनप्रतिनिधियों के नाम ले रहे थे, इसी बीच उन्होंने कहा कि मुरादाबाद लोकसभा सीट से भाजपा प्रत्याशी टाइगर कुंवर सर्वेश सिंह… यह शब्द सुनकर भीड़ ने शोर से समर्थन दिया था। वहां सीएम ने मुरादाबाद में विश्वविद्यालय और बिजनौर में मडिकल कॉलेज का भी जिक्र किया। इसके बाद बोले थे कि टाइगर के क्षेत्र में आएंगे तो टाइगर जैसा कार्य भी करेंगे। हम अमानगढ़ में भी ईको टूरिज्म का विश्व स्तरीय सेंटर भी बनने जा रहा है

सर्वेश सिंह से मेरे पारिवारिक संबंध थे: चौधरी भूपेंद्र सिंह
भाजपा प्रदेश अध्यक्ष चौधरी भूपेंद्र सिंह ने बताया कि कुंवर सर्वेश सिंह के निधन की जानकारी मिलने पर उनको काफी धक्का लगा है। उनके लिए ही शुक्रवार को मतदान करने के लिए गया था। लखनऊ आने पर ऐसी दुखद घटना की जानकारी मिल गई। निधन की जानकारी मिलने पर उन्होंने सर्वेश सिंह के पुत्र विधायक सुशांत सिंह को कॉल किया। उन्होंने बताया कि शव दिल्ली से ठाकुरद्वारा लाया जाएगा। शव यात्रा में शामिल होने के लिए वह लखनऊ से सुबह मुरादाबाद पहुंचेंगे। अभी 12 अप्रैल को केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह के कार्यक्रम में शरीक होने के लिए आए थे। उस समय वह अच्छे-भले दिख रहे थे

हमारे लिए यह बहुत बड़ी क्षति: चौधरी भूपेंद्र सिंह
भाजपा प्रदेश अध्यक्ष चौधरी भूपेंद्र सिंह ने कहा कि सर्वेश सिंह के पिता स्वर्गीय रामपाल सिंह से उनके परिवार का गहरा नाता रहा है। राम पाल सिंह सांसद थे। इसी कारण राजनीतिक जीवन में भी उनसे मुलाकात होती रहती थी। घर आना जाना लगा रहता था। सर्वेश सिंह को चुनाव जिताने के लिए उन्होंने काफी दम लगाया था। अन्य स्थानों पर कार्यक्रम होने के बावजूद वह मुरादाबाद की स्थिति जानने के लिए हर संभव प्रयास करते थे। पिछली चुनाव में सर्वेश सिंह के चुनाव हारने पर भी दुख पहुंचा था। इसी कारण वह 2024 का चुनाव जिताने के लिए मतदान के एक दिन पहले मुरादाबाद गए थे। सर्वेश सिंह के बेटे सुशांत से बराबर उनके स्वास्थ्य के बारे में जानकारी लेते थे। आभास ऐसा नहीं हुआ कि इतना जल्दी चले जाएंगे। खुशी देने से पहले एक साथी चला गया। इसका मलाल बहुत दिनों तक रहेगा। हमारे लिए यह बहुत बड़ी क्षति है। जीवन का कोई भरोसा नहीं। कब कौन साथ छोड़ देगा।

पिता से मिली थी विरासत में सियासत, बन गए थे राजनीति के बाहुबली
पूर्व सांसद और मुरादाबाद लोकसभा सीट से भाजपा के प्रत्याशी रहे सर्वेश सिंह को सियासत विरासत में मिली थी। उनके पिता रामपाल सिंह 1962 से 1989 तक राजनीति में सक्रिय रहे। वह चार बार ठाकुरद्वारा से विधायक और एक बार अमरोहा से सांसद चुके गए थे। पिता से राजनीति के गुर विरासत में मिलने के बाद सर्वेश सिंह 1991 में सक्रिय राजनीति में आए थे। वे उत्तर प्रदेश की राजनीति में बाहुबली नेता के रूप में भी जाने जाते रहे।

 

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also
Close